Sunday, August 9, 2020
Home देश From the architect of socialist power to controversies, this is how Amar...

From the architect of socialist power to controversies, this is how Amar Singh’s journey | मुलायम को सीएम की कुर्सी तक पहुंचाया; अखिलेश ने बताया था बाहरी व्यक्ति, आजम से हमेशा रही तल्खी

लखनऊ19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अमर सिंह को मुलायम सिंह का बहुत करीबी माना जाता था। हालांकि, बीते कुछ सालों से उनके बीच दूरियां बढ़ गई थीं। -फाइल फोटो

  • देश के नामी उद्योपतियों में गिने जाते थे अमर सिंह, सपा से अलग होकर बनाया था राष्ट्रीय लोकमंच
  • पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बताया था बाहरी व्यक्ति, उन पर परिवार तोड़ने का आरोप भी लगाया

कभी यूपी की सत्ता के चाणक्य कहे जाने वाले अमर सिंह का शनिवार को सिंगापुर में निधन हो गया। समाजवादी पार्टी के समर्थन से राज्यसभा जाने वाले अमर सिंह एक जमाने में पूरे उत्तर प्रदेश की सत्ता के सबसे बड़े प्रबंधक कहे जाते थे। कहते हैं कि मुलायम सिंह यादव को सीएम की कुर्सी तक पहुंचाने में उनका बड़ा योगदान था। बाद में सपा में आजम खान का कद बढ़ा तो अमर सिंह की उनसे तल्खी बढ़ गई और हमेशा रही।

उद्योपति थे, लेकिन राजनीति से पहचान मिली
अमर सिंह उद्योगपति थे, लेकिन उनकी असल पहचान राजनीति के किंग मेकर के रूप में होती थी। वे 90 के दशक में समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के संपर्क में आए थे। कहा जाता है कि मुलायम को मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचाने में अमर सिंह का बड़ा योगदान रहा। एक समय सपा में वे नंबर दो पोजिशन पर थे।

सपा से अलग होकर बनाया था राष्ट्रीय लोकमंच
दो दशक तक पूर्वांचल की सियासत में बड़ी भूमिका निभाने वाले अमर को जब 2010 में सपा से निकाल दिया गया तो उन्होंने पूर्वांचल को अलग राज्य घोषित करने की मांग के साथ अपनी पार्टी राष्ट्रीय लोकमंच का गठन किया। लोकमंच ने आजमगढ़ समेत पूर्वांचल के कई जिलों में बड़ी सभाएं भी कीं, लेकिन कोई खास असर नहीं दिखा सकी।

आजम खान से तल्ख रिश्ते थे
अमर सिंह के समाजवादी पार्टी से दूर होने की वजह एसपी के बड़े नेता आजम खान बने। 2010 में आजम के बढ़ते प्रभाव के बीच ही मुलायम सिंह ने अमर सिंह को सपा से बाहर किया था। तब से ही आजम और अमर की तल्खी बढ़ती चली गई। इसके बाद कुछ समय तक अमर राजनीति से दूर रहे। हालांकि, 2016 में जब अमर सिंह को फिर राज्यसभा का सांसद बनाने का मौका आया तो उनके निर्दलीय प्रत्याशी होने के बावजूद एसपी ने उनका समर्थन कर उन्हें राज्यसभा भेजा।

अखिलेश यादव ने बताया था बाहरी व्यक्ति
एक वक्त ऐसा भी आया, जब अमर सिंह पर मुलायम परिवार को तोड़ने की कोशिश करने का आरोप लगा। यह आरोप मुलायम के बेटे अखिलेश यादव ने ही लगाया। अखिलेश ने अमर सिंह को बाहरी व्यक्ति बताकर कई बार उनकी आलोचना की। अमर भी कई मौकों पर अखिलेश पर उनका अपमान करने का आरोप लगाते रहे।

अमर सिंह से संबंधित ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं…

1. राज्यसभा सांसद अमर सिंह का सिंगापुर में निधन; मुलायम सिंह यादव के बेहद करीबी रहे, हालांकि दो बार सपा से निकाले गए थे

2. अमर सिंह का विवादों से भी नाता रहा: मुलायम सिंह यादव के लिए कहा था- एकलव्य बनकर संतुष्ट हूं, लेकिन अपना अंगूठा नहीं दूंगा

0

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला ख़ामेनेई ने आधिकारिक हिंदी ट्विटर अकाउंट की शुरुआत की

अयातुल्ला सैय्यद अली ख़ामेनेई ने अब तक सिर्फ दो ट्वीट किए हैं.तेहरान : ईरान (Iran) के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला सैय्यद अली ख़ामेनेई (Ayatollah Sayyid...

Coronavirus News In Hindi : Corona Has Caused 7.18 Lakh Deaths So Far, Totaling 1.98 Crore In The World – दुनिया भर में कोरोना...

दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण का आंकड़ा रविवार को 1.98 करोड़ को पार कर चुका है। इनमें 1 करोड़ 27 लाख से अधिक...

बेरुत धमाका: तीन मंत्रालयों में घुसे प्रदर्शनकारी, कहा-नेताओं को चौराहे पर लाकर फांसी पर लटकाओ

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बेरूत Updated Mon, 10 Aug 2020 03:08 AM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹249...

ब्रिटेन में महात्मा गांधी के पहने हुए चश्मे नीलामी के लिए रखे गए

चश्मे की अनुमानित कीमत 10,000 से 15,000 पाउंड के बीच रहने की उम्मीद है.लंदन: ब्रिटेन में होने वाली एक ऑनलाइन नीलामी में सोने...

Recent Comments